Saturday, May 21, 2022
Home देश क्या 21 दिनों का लॉकडाउन कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए काफी...

क्या 21 दिनों का लॉकडाउन कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए काफी है ?

21 दिनों का लॉकडाउन कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए काफी है कि नहीं का सीधा और सपाट जवाब है ” नहीं ” लेकिन जिस प्रकार से कोरोना संक्रमण कम्युनिटी ट्रांसमिट के जरिए लोगों में फैलना शुरू होता है उसको देखकर कहा जा सकता है कि इस कम्युनिटी ट्रांसमिट को लॉकडाउन के जरिये कुछ हद तक रोका जा सकता है । AIIMS व अनेक प्रतिष्टित डॉक्टरों का कहना है कि इस संक्रमण के लक्षण व प्रदर्शित लक्षण के आने में 5 से 14 दिनों का समय होता है । इस प्रकार से 2 हफ्ते में हम मरीज़ों को चिन्हित कर सकते हैं । इसके आगे इस संक्रमण की पद्धति को रोकने में कम से कम 20 से 25 दिनों तक इस चेन को रोकना जरूरी है ।

भारत में क्या है इस संक्रमण के फैलने के चान्सेस ?

भारत में कोरोना संक्रमण फैलने के चान्सेस अत्यधिक हैं , 130 करोड़ की आबादी वाले देश में कम्युनिटी ट्रांसमिट जैसी बीमारी को रोकना सरकार के लिए चुनौती है । सरकारी व राजकीय जानकारी के अनुसार पिछले 20 दिनों में विदेशों से आने वाले ज्यादातर लोगों को इस संक्रमण से संदिग्ध पाकर सरकार ने क्वारंटाइन करना शुरू व कर दिया । लेकिन कई लोग सरकार की ज्यादती सोचकर या फिर कह लें लापरवाही में सरकारी संस्थानों से गुपचुप तरीके से भागने में सफल रहे । कई केस ऐसे भी आ रहें है कि लोगों ने जानबूझकर भी इस संक्रमण को छुपाकर रखा और समाज व कई पार्टीयों में शिरकत की । इस तरह का व्यवहार जानबूझकर हो या अनजाने में लेकिन इसकी बहुत बड़ी कीमत मानव जाति को चुकाना होगा । आंकड़ों के अनुसार शहरों से कई लाख लोग गाँव गए हैं । जिनकी न तो कहीं स्क्रीनिंग हुई है और न ही वहाँ समुचित व्यवस्था है इस महामारी से निपटने के लिए ।

क्या है महामारी से निपटने का मंत्र ?

इस वैश्विक महामारी से निपटने का सिर्फ और सिर्फ एक ही मंत्र है और वो है इस महामारी के तीसरे व महत्वपूर्ण चरण कम्युनिटी ट्रांसमिट को रोकना , जिसे अपने घरों से न निकलकर ही रोक जा सकता है । किसी भी प्रकार के जनता जमावड़े से दूर रहें चाहे वह धार्मिक , निजी व सामाजिक जमावड़ा हो । शहरों में तो पुलिस व्यवस्था चुस्त दुरुस्त है जिससे इस पर निजात पाया जा सकता है । लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों में जहाँ इसका सबसे बड़ा खतरा है वहाँ ग्रामीणों व पब्लिक रिप्रेजेंटेटिवों की यह जिम्मेदारी है कि लोगों को इसके प्रति जागरूक करें और इस वैश्विक महामारी के बारे में लोगों को जागरूक करें । सोशल – डिस्टनसिंग को फॉलो करें बांकी राज्य सरकार व केंद्र सरकार मिलकर इस महामारी से निपटने के लिए एक कदम आगे वाले कार्य कर रही है । विभिन्न मीडिया व डॉक्टरों के द्वारा भी इस संक्रमण से बचाव को लेकर इस दौरान अलग-अलग तरीके बताये जा रहे हैं , उसे आप अपना सकते हैं । खुद स्वस्थ रहें और समाज को भी स्वस्थ रखें ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

5 कारें जो बन सकती हैं आपकी पहली पसंद: माइलेज, मेंटेनेंस से सेफ्टी रेटिंग तक, आपके बजट पर खरी उतरेंगी ये कारें; अभी ट्राइबर...

5 कारें जो बन सकती हैं आपकी पहली पसंद: माइलेज, मेंटेनेंस से सेफ्टी रेटिंग तक, आपके बजट पर खरी उतरेंगी ये कारें;...

महंगाई का मार: इस महीने अब तक 7वीं बार बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, दिल्ली में पेट्रोल 103.54 और डीजल 92.12 रुपए पर पहुंचा

महंगाई का मार: इस महीने अब तक 7वीं बार बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, दिल्ली में पेट्रोल 103.54 और डीजल 92.12 रुपए पर...

RBI की मॉनेटरी पॉलिसी LIVE: रिजर्व बैंक ने ब्याज दरों में नहीं किया कोई बदलाव, रेपो रेट 4% पर और रिवर्स रेपो रेट 3.35%...

RBI की मॉनेटरी पॉलिसी LIVE: रिजर्व बैंक ने ब्याज दरों में नहीं किया कोई बदलाव, रेपो रेट 4% पर और रिवर्स रेपो...

लालू की पाठशाला: पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा- आंदोलन करो-जेल भरो, मुकदमा से मत डरो

लालू की पाठशाला: पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा- आंदोलन करो-जेल भरो, मुकदमा से मत डरो   सार लालू प्रसाद मंगलवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के...

Recent Comments