Saturday, May 21, 2022
Home राज्य बिहार महागठबंधन में मनभेद: उपचुनाव में राजद के बाद कांग्रेस ने भी उम्मीदवारों...

महागठबंधन में मनभेद: उपचुनाव में राजद के बाद कांग्रेस ने भी उम्मीदवारों को मैदान में उतारा, तेजस्वी बोले- यह कोई मुद्दा नहीं

महागठबंधन में मनभेद: उपचुनाव में राजद के बाद कांग्रेस ने भी उम्मीदवारों को मैदान में उतारा, तेजस्वी बोले- यह कोई मुद्दा नहीं

 

 

सार

राजद ने तारापुर और कुशेश्वरस्थान से अपने उम्मीदवार की घोषणा कर दी है। इससे गुस्साई कांग्रेस टिट फॉर टैट वाले फॉर्मूले पर काम कर रही है। कांग्रेस भी यहां से उम्मीदवार उतारने का एलान कर दिया है। पिछले विधानसभा चुनाव में कुशेश्वरस्थान सीट कांग्रेस के खाते में गई थी, लेकिन उप चुनाव में राजद ने यहां से भी उम्मीदवार उतारा है। इसको लेकर महागठबंधन में मनभेद की स्थिति पैदा हो गई है।

तेजस्वी यादव, नेता, राजद

बिहार में 30 अक्तूबर को दो सीटों पर होने वाले उपचुनावों को लेकर महागठबंधन की राजनीति गरमा गई है। राष्ट्रीय जनता दल ने कुशेश्वरस्थान और तारापुर सीट पर अपने उम्मीदवार उतार दिए हैं, इससे महागठबंधन में शामिल कांग्रेस नाराज हो गई है। कांग्रेस का आरोप है कि राजद ने सहयोगी पार्टी से बिना चर्चा किए हुए उम्मीदवारों के नाम का एलान कर दिया। ऐसे में कांग्रेस ने भी दोनों सीटों पर उम्मीदवार उतारने का एलान कर दिया है।

 

बिहार कांग्रेस प्रमुख मदन मोहन झा ने बताया कि ‘विधानसभा उपचुनाव में कुशेश्वरस्थान से अतीरेक कुमार और तारापुर से राजेश कुमार मिश्रा कांग्रेस के उम्मीदवार होंगे। राजद द्वारा दोनों सीटों पर अपने उम्मीदवारों की घोषणा के बाद, हमारे नेताओं की राय थी कि हमें भी यह चुनाव लड़ना चाहिए।’

गौरतलब है कि 2020 के विधानसभा चुनाव में कुशेश्र्वरस्थान की सीट कांग्रेस के खाते में थी, जबकि तारापुर राजद के। दोनों सीटों पर जदयू उम्मीदवार जीते थे। कांग्रेस का आरोप है कि राजद ने विश्वास में लिए बिना दोनों सीटों के उपचुनाव में प्रत्याशी उतार दिए। अब महागठबंधन के टूटने के सवाल पर उन्होंने कहा कि इसका फैसला केंद्रीय आलाकमान करेगा।

वहीं, राजद नेता और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने कहा कि महागठबंधन में कोई समस्या नहीं है। हमारी पार्टी ने दो निर्वाचन क्षेत्रों में चुनाव लड़ने का फैसला किया। अगर कांग्रेस भी उपचुनावों में उम्मीदवार उतारना चाहती है तो कोई दिक्कत नहीं है।

बता दें कि राज्यों में स्थानीय पार्टियों के साथ गठबंधन की राजनीति करने वाली कांग्रेस के उनसे रिश्ते बिगड़ रहे हैं। बिहार से पहले बंगाल में वाममोर्चा ने कांग्रेस से बिना विमर्श किए उपचुनाव के लिए प्रत्याशियों की घोषणा कर दी। बंगाल में वाममोर्चा ने कांग्रेस से किसी भी तरह के गठबंधन पर चर्चा किए बिना चार विधानसभा सीटों पर 30 अक्टूबर को होने वाले उपचुनावों में अकेले लड़ने का फैसला कर लिया।

दो सीटों पर माकपा व एक-एक सीट पर फारवर्ड ब्लाक व आरएसपी चुनाव लड़ेगी। गौरतलब है कि गोसाबा, शांतिपुर, दिनहाटा और खड़दह में उपचुनाव होने हैं। वहीं, बिहार में कांग्रेस ने महागठबंधन के प्रमुख दल राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के खिलाफ ही उपचुनाव में ताल ठोक दी है। कांग्रेस का आरोप है कि राजद ने बिना विश्वास में लिए दोनों सीटों पर अपने प्रत्याशियों की घोषणा कर दी।

विस्तार

बिहार में 30 अक्तूबर को दो सीटों पर होने वाले उपचुनावों को लेकर महागठबंधन की राजनीति गरमा गई है। राष्ट्रीय जनता दल ने कुशेश्वरस्थान और तारापुर सीट पर अपने उम्मीदवार उतार दिए हैं, इससे महागठबंधन में शामिल कांग्रेस नाराज हो गई है। कांग्रेस का आरोप है कि राजद ने सहयोगी पार्टी से बिना चर्चा किए हुए उम्मीदवारों के नाम का एलान कर दिया। ऐसे में कांग्रेस ने भी दोनों सीटों पर उम्मीदवार उतारने का एलान कर दिया है।

 

बिहार कांग्रेस प्रमुख मदन मोहन झा ने बताया कि ‘विधानसभा उपचुनाव में कुशेश्वरस्थान से अतीरेक कुमार और तारापुर से राजेश कुमार मिश्रा कांग्रेस के उम्मीदवार होंगे। राजद द्वारा दोनों सीटों पर अपने उम्मीदवारों की घोषणा के बाद, हमारे नेताओं की राय थी कि हमें भी यह चुनाव लड़ना चाहिए।’

गौरतलब है कि 2020 के विधानसभा चुनाव में कुशेश्र्वरस्थान की सीट कांग्रेस के खाते में थी, जबकि तारापुर राजद के। दोनों सीटों पर जदयू उम्मीदवार जीते थे। कांग्रेस का आरोप है कि राजद ने विश्वास में लिए बिना दोनों सीटों के उपचुनाव में प्रत्याशी उतार दिए। अब महागठबंधन के टूटने के सवाल पर उन्होंने कहा कि इसका फैसला केंद्रीय आलाकमान करेगा।

वहीं, राजद नेता और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने कहा कि महागठबंधन में कोई समस्या नहीं है। हमारी पार्टी ने दो निर्वाचन क्षेत्रों में चुनाव लड़ने का फैसला किया। अगर कांग्रेस भी उपचुनावों में उम्मीदवार उतारना चाहती है तो कोई दिक्कत नहीं है।

 

बता दें कि राज्यों में स्थानीय पार्टियों के साथ गठबंधन की राजनीति करने वाली कांग्रेस के उनसे रिश्ते बिगड़ रहे हैं। बिहार से पहले बंगाल में वाममोर्चा ने कांग्रेस से बिना विमर्श किए उपचुनाव के लिए प्रत्याशियों की घोषणा कर दी। बंगाल में वाममोर्चा ने कांग्रेस से किसी भी तरह के गठबंधन पर चर्चा किए बिना चार विधानसभा सीटों पर 30 अक्टूबर को होने वाले उपचुनावों में अकेले लड़ने का फैसला कर लिया।

दो सीटों पर माकपा व एक-एक सीट पर फारवर्ड ब्लाक व आरएसपी चुनाव लड़ेगी। गौरतलब है कि गोसाबा, शांतिपुर, दिनहाटा और खड़दह में उपचुनाव होने हैं। वहीं, बिहार में कांग्रेस ने महागठबंधन के प्रमुख दल राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के खिलाफ ही उपचुनाव में ताल ठोक दी है। कांग्रेस का आरोप है कि राजद ने बिना विश्वास में लिए दोनों सीटों पर अपने प्रत्याशियों की घोषणा कर दी।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

5 कारें जो बन सकती हैं आपकी पहली पसंद: माइलेज, मेंटेनेंस से सेफ्टी रेटिंग तक, आपके बजट पर खरी उतरेंगी ये कारें; अभी ट्राइबर...

5 कारें जो बन सकती हैं आपकी पहली पसंद: माइलेज, मेंटेनेंस से सेफ्टी रेटिंग तक, आपके बजट पर खरी उतरेंगी ये कारें;...

महंगाई का मार: इस महीने अब तक 7वीं बार बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, दिल्ली में पेट्रोल 103.54 और डीजल 92.12 रुपए पर पहुंचा

महंगाई का मार: इस महीने अब तक 7वीं बार बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, दिल्ली में पेट्रोल 103.54 और डीजल 92.12 रुपए पर...

RBI की मॉनेटरी पॉलिसी LIVE: रिजर्व बैंक ने ब्याज दरों में नहीं किया कोई बदलाव, रेपो रेट 4% पर और रिवर्स रेपो रेट 3.35%...

RBI की मॉनेटरी पॉलिसी LIVE: रिजर्व बैंक ने ब्याज दरों में नहीं किया कोई बदलाव, रेपो रेट 4% पर और रिवर्स रेपो...

लालू की पाठशाला: पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा- आंदोलन करो-जेल भरो, मुकदमा से मत डरो

लालू की पाठशाला: पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा- आंदोलन करो-जेल भरो, मुकदमा से मत डरो   सार लालू प्रसाद मंगलवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के...

Recent Comments