Thursday, September 29, 2022
Home बिज़नेस गांव में देश का पहला 5G ट्रायल: यह टेस्टिंग एयरटेल ने 3500...

गांव में देश का पहला 5G ट्रायल: यह टेस्टिंग एयरटेल ने 3500 MHz कैपेसिटी वाले स्पेक्ट्रम पर की, 4G के मुकाबले 10 गुना ज्यादा डाउनलोड स्पीड मिलेगी

गांव में देश का पहला 5G ट्रायल: यह टेस्टिंग एयरटेल ने 3500 MHz कैपेसिटी वाले स्पेक्ट्रम पर की, 4G के मुकाबले 10 गुना ज्यादा डाउनलोड स्पीड मिलेगी

 

 

 

एयरटेल कंपनी ने भारत के गांव में भी 5G का ट्रायल शुरू कर दिया है। कंपनी ने बताया कि यह ट्रायल वह दिल्ली NCR के आउटर में स्थित भाईपुर ब्रह्मानन गांव में कर रही है। एयरटेल यह ट्रायल एरिक्सन कंपनी के साथ मिलकर कर रही है। यह पहली बार होगा जब कोई टेलीकॉम कंपनी किसी गांव में 5G का ट्रायल कर रही है। DoT के मुताबिक, 4G टेक्नोलॉजी के मुकाबले 5G टेक्नोलॉजी में 10 गुना बेहतर डाउनलोड स्पीड मिलने की उम्मीद है।

एयरटेल और एरिक्सन ने मिलकर किया ट्रायल
कुछ महीने पहले भारती एयरटेल और एरिक्सन ने हाथ मिलाया था ताकि 5G नेटवर्क की इंटरनेट स्पीड 1GB/s से भी ज्यादा किया जा सके। दोनों मिलकर दिल्ली NCR के साइबर हब गुरुग्राम में ट्रायल कर चुके हैं। यह टेस्टिंग 3500 MHz कैपेसिटी वाले ट्रायल स्पेक्ट्रम पर की गई थी। एयरटेल ट्रायल के दौरान कंपनी 1Gbps से ज्यादा की स्पीड हासिल कर चुकी है। जो कि देश में 4G नेटवर्क पर मिलने वाली स्पीड से ज्यादा है।

5G के जरिए क्लाउड से क्लाइंट कनेक्ट हो सकेंगे
5G सेलुलर टेक्नोलॉजी में लेटेस्ट टेक्नोलॉजी है। 5G के तहत यूजर्स को ज्यादा स्पीड, कम लेटेंसी और ज्यादा फ्लेक्सिबिलिटी मिलेगी। 5G सेलुलर टेक्नोलॉजी की बात करें तो ये क्लाउड से क्लाइंट को कनेक्ट करेगा। 5G एक नए प्रोसेस के जरिए वन सिंगल डिजिटल सिग्नल को कई चैनल्स में भेजेगा। इससे न सिर्फ बेहतर इंटरनेट स्पीड मिलेगी, बल्कि इससे ऑटोमेशन को भी नया रूप मिलेगा।

स्पीड के अलावा भी 5G कई जगह काम आएगा। इससे कनेक्टिविटी तो बेहतर होगी ही साथ ही 5G टेक्नोलॉजी की मदद से ड्राइवर लेस कार के सपने को साकार करने में आसान होगी। यह हेल्थकेयर, वर्चुअल रियलिटी, क्लाउड गेमिंग को भी आसान बनाएगा।

फिक्स्ड वायरलेस एक्सेस सर्विस का भी लाभ उठा सकेंगे
यह ट्रायल से उस दीवार को तोड़ने में मदद मिलेगी, जिसके बारे में सोचा जाता है कि 5G अभी सिर्फ शहरों में लाया जाएगा। गांव और शहरों के बीच डिजिटल डिवाइडर की बात होती है, जो दूर हो जाएगी। 5G की मदद से यूजर्स को बेहतर मोबाइल ब्रांड बैंड कनेक्शन मिलेगा और वे फिक्स्ड वायरलेस एक्सेस सर्विस का भी लाभ उठा सकेंगे। हालांकि ट्रायल के दौरान आम लोग 5G इंटरनेट का इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

5 कारें जो बन सकती हैं आपकी पहली पसंद: माइलेज, मेंटेनेंस से सेफ्टी रेटिंग तक, आपके बजट पर खरी उतरेंगी ये कारें; अभी ट्राइबर...

5 कारें जो बन सकती हैं आपकी पहली पसंद: माइलेज, मेंटेनेंस से सेफ्टी रेटिंग तक, आपके बजट पर खरी उतरेंगी ये कारें;...

महंगाई का मार: इस महीने अब तक 7वीं बार बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, दिल्ली में पेट्रोल 103.54 और डीजल 92.12 रुपए पर पहुंचा

महंगाई का मार: इस महीने अब तक 7वीं बार बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, दिल्ली में पेट्रोल 103.54 और डीजल 92.12 रुपए पर...

RBI की मॉनेटरी पॉलिसी LIVE: रिजर्व बैंक ने ब्याज दरों में नहीं किया कोई बदलाव, रेपो रेट 4% पर और रिवर्स रेपो रेट 3.35%...

RBI की मॉनेटरी पॉलिसी LIVE: रिजर्व बैंक ने ब्याज दरों में नहीं किया कोई बदलाव, रेपो रेट 4% पर और रिवर्स रेपो...

लालू की पाठशाला: पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा- आंदोलन करो-जेल भरो, मुकदमा से मत डरो

लालू की पाठशाला: पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा- आंदोलन करो-जेल भरो, मुकदमा से मत डरो   सार लालू प्रसाद मंगलवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के...

Recent Comments