Wednesday, September 28, 2022
Home राज्य बिहार बिहार : सीएम नीतीश कुमार ने नीति आयोग के कार्य करने के...

बिहार : सीएम नीतीश कुमार ने नीति आयोग के कार्य करने के तरीके पर जताई नाराजगी, कहा- हम भेजेंगे अपना जवाब

बिहार : सीएम नीतीश कुमार ने नीति आयोग के कार्य करने के तरीके पर जताई नाराजगी, कहा- हम भेजेंगे अपना जवाब

 

सार

बिहार की स्वास्थ्य व्यवस्था पर नीति आयोग की रिपोर्ट को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि इस रिपोर्ट पर बिहार सरकार अपना जवाब भेजेगी कि यह उपयुक्त नहीं है। देश के सभी राज्यों को मापने का एक आधार नहीं होना चाहिए। बिहार में हुए कार्यों पर गौर किए बिना रिपोर्ट जारी कर देना उचित नहीं है।

बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने सोमवार को ‘जनता के दरबार में मुख्यमंत्री’ कार्यक्रम के बाद मीडिया से बातचीत के दौरान बिहार की स्वास्थ्य व्यवस्था पर नीति आयोग की रिपोर्ट पर और उसके कार्य करने के तरीके पर नाराजगी जताई है। देश के सभी राज्यों को मापने का एक आधार नहीं होना चाहिए।

 

रिपोर्ट को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में सीएम ने कहा कि इस रिपोर्ट पर बिहार सरकार अपना जवाब भेजेगी कि यह उपयुक्त नहीं है। बिहार में हुए कार्यों पर गौर किए बिना रिपोर्ट जारी कर देना उचित नहीं है। 

उन्होंने कहा, नीति आयोग की अगली बैठक में अगर हमें जाने का मौका मिला तो एक-एक बात हम फिर से उनके सामने रखेंगे। एसेसमेंट करने से पहले बुनियादी चीजों की जानकारी होनी चाहिए। सभी राज्यों को एक ही लिस्ट में रखना ठीक नहीं है। मुझे पता नहीं है कि नीति आयोग किस प्रकार और किसके माध्यम से अपना काम कराती है।

नीतीश कुमार ने कहा कि देश के सभी राज्यों को मापने का एक आधार नहीं होना चाहिए। जो राज्य विकसित हैं और जो पिछड़े हैं, उन सभी को अलग-अलग करके देखा जाना चाहिए। इससे पिछड़े राज्यों को आगे लाने में बहुत मदद मिलेगी।

उन्होंने कहा कि बिहार आबादी के हिसाब से देश में तीसरे नंबर पर है, उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र के बाद बिहार है लेकिन क्षेत्रफल के हिसाब से 12 वें स्थान पर है। बिहार में प्रति वर्ग किलोमीटर आबादी देश में सबसे ज्यादा है, बिहार की इन परिस्थितियों को भी ध्यान में रखना होगा।

राज्य में है देश का सबसे बड़ा हॉस्पिटल
मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार में कई मेडिकल कॉलेज और अस्पतालों का निर्माण किया गया है। इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान काफी बेहतर ढंग से कार्य कर रहा है। पटना में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) लिए बिहार सरकार ने जमीन की व्यवस्था की ताकि जितना जल्दी हो वहां का काम शुरू हो सके।

पटना में एम्स भी बहुत अच्छी तरह से चल रहा है। अस्पतालों में बेडों की संख्या भी काफी बढ़ाई गई है। उन्होंने कहा कि क्या यह नीति आयोग को पता नहीं है कि पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल (पीएमसीएच) को 5,4०० बेड का अस्पताल बना रहे हैं और काम शुरू कर दिया गया है।

सीएम ने कहा कि यह देश का सबसे बड़ा अस्पताल बनेगा। यह तय कर दिया गया है कि चार साल के अंदर ये काम पूरा हो जाएगा। उन्होंने कहा कि उनकी इच्छा है कि और कम समय में यह पूरा हो और उसके लिए अथक प्रयास किए जा रहे हैं।

विस्तार

बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने सोमवार को ‘जनता के दरबार में मुख्यमंत्री’ कार्यक्रम के बाद मीडिया से बातचीत के दौरान बिहार की स्वास्थ्य व्यवस्था पर नीति आयोग की रिपोर्ट पर और उसके कार्य करने के तरीके पर नाराजगी जताई है। देश के सभी राज्यों को मापने का एक आधार नहीं होना चाहिए।

 

रिपोर्ट को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में सीएम ने कहा कि इस रिपोर्ट पर बिहार सरकार अपना जवाब भेजेगी कि यह उपयुक्त नहीं है। बिहार में हुए कार्यों पर गौर किए बिना रिपोर्ट जारी कर देना उचित नहीं है।

उन्होंने कहा, नीति आयोग की अगली बैठक में अगर हमें जाने का मौका मिला तो एक-एक बात हम फिर से उनके सामने रखेंगे। एसेसमेंट करने से पहले बुनियादी चीजों की जानकारी होनी चाहिए। सभी राज्यों को एक ही लिस्ट में रखना ठीक नहीं है। मुझे पता नहीं है कि नीति आयोग किस प्रकार और किसके माध्यम से अपना काम कराती है।

नीतीश कुमार ने कहा कि देश के सभी राज्यों को मापने का एक आधार नहीं होना चाहिए। जो राज्य विकसित हैं और जो पिछड़े हैं, उन सभी को अलग-अलग करके देखा जाना चाहिए। इससे पिछड़े राज्यों को आगे लाने में बहुत मदद मिलेगी।

उन्होंने कहा कि बिहार आबादी के हिसाब से देश में तीसरे नंबर पर है, उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र के बाद बिहार है लेकिन क्षेत्रफल के हिसाब से 12 वें स्थान पर है। बिहार में प्रति वर्ग किलोमीटर आबादी देश में सबसे ज्यादा है, बिहार की इन परिस्थितियों को भी ध्यान में रखना होगा।

राज्य में है देश का सबसे बड़ा हॉस्पिटल

मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार में कई मेडिकल कॉलेज और अस्पतालों का निर्माण किया गया है। इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान काफी बेहतर ढंग से कार्य कर रहा है। पटना में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) लिए बिहार सरकार ने जमीन की व्यवस्था की ताकि जितना जल्दी हो वहां का काम शुरू हो सके।

पटना में एम्स भी बहुत अच्छी तरह से चल रहा है। अस्पतालों में बेडों की संख्या भी काफी बढ़ाई गई है। उन्होंने कहा कि क्या यह नीति आयोग को पता नहीं है कि पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल (पीएमसीएच) को 5,4०० बेड का अस्पताल बना रहे हैं और काम शुरू कर दिया गया है।

सीएम ने कहा कि यह देश का सबसे बड़ा अस्पताल बनेगा। यह तय कर दिया गया है कि चार साल के अंदर ये काम पूरा हो जाएगा। उन्होंने कहा कि उनकी इच्छा है कि और कम समय में यह पूरा हो और उसके लिए अथक प्रयास किए जा रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

5 कारें जो बन सकती हैं आपकी पहली पसंद: माइलेज, मेंटेनेंस से सेफ्टी रेटिंग तक, आपके बजट पर खरी उतरेंगी ये कारें; अभी ट्राइबर...

5 कारें जो बन सकती हैं आपकी पहली पसंद: माइलेज, मेंटेनेंस से सेफ्टी रेटिंग तक, आपके बजट पर खरी उतरेंगी ये कारें;...

महंगाई का मार: इस महीने अब तक 7वीं बार बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, दिल्ली में पेट्रोल 103.54 और डीजल 92.12 रुपए पर पहुंचा

महंगाई का मार: इस महीने अब तक 7वीं बार बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, दिल्ली में पेट्रोल 103.54 और डीजल 92.12 रुपए पर...

RBI की मॉनेटरी पॉलिसी LIVE: रिजर्व बैंक ने ब्याज दरों में नहीं किया कोई बदलाव, रेपो रेट 4% पर और रिवर्स रेपो रेट 3.35%...

RBI की मॉनेटरी पॉलिसी LIVE: रिजर्व बैंक ने ब्याज दरों में नहीं किया कोई बदलाव, रेपो रेट 4% पर और रिवर्स रेपो...

लालू की पाठशाला: पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा- आंदोलन करो-जेल भरो, मुकदमा से मत डरो

लालू की पाठशाला: पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा- आंदोलन करो-जेल भरो, मुकदमा से मत डरो   सार लालू प्रसाद मंगलवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के...

Recent Comments