Saturday, May 21, 2022
Home राज्य बिहार राजद की बैठक में बोले तेजस्वी, एससी-एसटी एक्ट में छेड़छाड़ ना हो

राजद की बैठक में बोले तेजस्वी, एससी-एसटी एक्ट में छेड़छाड़ ना हो



राबड़ी आवास में राजद की बैठक शुरू हो गई है। आज की बैठक महत्वपूर्ण मानी जा रही है। बैठक में सीट शेयरिंग से लेकर कई अहम मुद्दों पर चर्चा हो रही है। बैठक की अध्यक्षता राबड़ी देवी कर रही हैं। इसमें लोकसभा चुनाव के लिए रणनीति तैयार करने के साथ ही गठबंधन पर भी चर्चा की जा रही  है।

राजद की बैठक में राबड़ी देवी ने कहा कि 2019 लोकसभा चुनाव के लिए हम पूरी तरह तैयार हैं। देश में पूरा महागठबंधन तैयार है। सभी विपक्षी दल एकजुट हैं।

राजद की बैठक में तेजस्वी यादव ने कहा कि लालू प्रसाद जी को जल्द न्याय मिलेगा। एससी-एसटी एक्ट से कोई छेडछाड़ न हो, सवर्णों का भारत बंद भाजपा-आरएसएस का एजेंडा था। एससी-एसटी एक्ट को 9वीं अनुसूची से दूर रखा गया। केंद्र सरकार आरक्षण को चतुराई से समाप्त करना चाहती है। पिछड़ा-दलितों में फूट डालने की कोशिश हो रही है।

बता दें कि राष्ट्रीय जनता दल (राजद) आर्थिक आधार पर गरीब सवर्णों के आरक्षण को लेकर फिर से दुविधा में है। बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान राजद प्रमुख लालू प्रसाद ने गरीब सवर्णों के लिए 10 फीसद आरक्षण का पक्ष लिया था।

बदले हालात में आरक्षण एवं एससी-एसटी एक्ट के मसले पर केंद्र सरकार की किरकिरी का अनुमान लगाते हुए राजद लोकसभा चुनाव में भाजपा को घेरने के लिए इसे मुद्दा बनाने के पक्ष में तो है किंतु साथ ही इसे बर्रे का छत्ता भी मान रहा है।

लोकसभा चुनाव की रणनीतियां तय करने के लिए राजद ने मंगलवार को शीर्ष स्तर की बैठक बुलाई है, जिसमें केंद्र की भाजपा सरकार के साढ़े चार साल के कार्यों की समीक्षा करते हुए महागठबंधन के लिए मुद्दे तय किए जाएंगे।

प्रत्यक्ष तौर पर बैठक में बूथ लेबल एजेंटों की नियुक्ति और रघुवंश प्रसाद सिंह के नेतृत्व में बनी संघर्ष समिति के लिए एजेंडा तय करना है, लेकिन परोक्ष रूप से तेजस्वी यादव अपने थिंक टैंक से जानने की कोशिश करेंगे कि आरक्षण एवं एससी-एसटी एक्ट के मुद्दे पर भाजपा के खिलाफ सवर्णों के गुस्से को राजद किस तरह भुनाए।

ज्वलंत मुद्दों पर पार्टी की लाइन तय करने की जिम्मेवारी राजद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी, जगदानंद सिंह और मंगनीलाल मंडल को दी गई है। शिवानंद तिवारी के मुताबिक एससी-एसटी एक्ट में संशोधन करके भाजपा ने अपने ही पैर में कुल्हाड़ी मारी है। इसका सबसे ज्यादा विरोध भाजपा के कोर वोटर ही कर रहे हैं।आरक्षण के बारे में भाजपा नेताओं के उलझे बयानों ने भी उसके वोट बैंक को गहरा प्रभावित किया है। ऐसे में भाजपा विरोधी दलों का अपना स्टैंड तय करना वक्त की मांग है। कांग्रेस ने गरीब सवर्णों को भी 10 फीसद आरक्षण का पक्ष लिया है। राजद को भी अपनी लाइन साफ करनी है। इतना साफ है कि हम जल्दीबाजी में कोई निर्णय नहीं लेने जा रहे।






LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

5 कारें जो बन सकती हैं आपकी पहली पसंद: माइलेज, मेंटेनेंस से सेफ्टी रेटिंग तक, आपके बजट पर खरी उतरेंगी ये कारें; अभी ट्राइबर...

5 कारें जो बन सकती हैं आपकी पहली पसंद: माइलेज, मेंटेनेंस से सेफ्टी रेटिंग तक, आपके बजट पर खरी उतरेंगी ये कारें;...

महंगाई का मार: इस महीने अब तक 7वीं बार बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, दिल्ली में पेट्रोल 103.54 और डीजल 92.12 रुपए पर पहुंचा

महंगाई का मार: इस महीने अब तक 7वीं बार बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, दिल्ली में पेट्रोल 103.54 और डीजल 92.12 रुपए पर...

RBI की मॉनेटरी पॉलिसी LIVE: रिजर्व बैंक ने ब्याज दरों में नहीं किया कोई बदलाव, रेपो रेट 4% पर और रिवर्स रेपो रेट 3.35%...

RBI की मॉनेटरी पॉलिसी LIVE: रिजर्व बैंक ने ब्याज दरों में नहीं किया कोई बदलाव, रेपो रेट 4% पर और रिवर्स रेपो...

लालू की पाठशाला: पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा- आंदोलन करो-जेल भरो, मुकदमा से मत डरो

लालू की पाठशाला: पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा- आंदोलन करो-जेल भरो, मुकदमा से मत डरो   सार लालू प्रसाद मंगलवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के...

Recent Comments